हितचिन्‍तक- लोकतंत्र एवं राष्‍ट्रवाद की रक्षा में। आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

Sunday 10 May 2009

एक फोटो, जिसने 'सेकुलरिस्‍टों' की नींदें उड़ा दीं

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स से साभार

9 comments:

विचार-मंथन said...

एक नया भारत करवट ले रहा है। दो विकास पुरूष को एक साथ देखना वाकई आह्लादकारी है। गुजरात के मुख्‍यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्‍यमंत्री श्री नीतिश कुमार देश में विकास की नई इबारत लिख रहे हैं। काश, एनडीए के इन मुख्‍यमंत्रियों से हमारे वामपंथी मुख्‍यमंत्री, बुद्धदेव भट्टाचार्य और कांग्रेसी मुख्‍यमंत्री सीख ले पाते। कॉमरेडों ने तो 'सोनार बंगला' को सबसे निचले स्‍तर पर लाकर खडा कर दिया है।

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

इस फोटो मे नींद उड़ने वाली क्या बात है समझ नहीं आ रही . क्या आप भी मान रहे थे नीतिश जा रहे है

मनोज गुप्ता said...

भाई मुझे नहीं लगता इस फोटो ने सेकुलरिस्टों कि नीद उडाई. मुझे तो लगता है कि उन्हें पहले से ही नीद नहीं आ रही है. जय हो.
वैसे १६ तक ही परेशानी है इसके बाद तो उन्हें सोना ही सोना है.

saurab said...

ये तस्वीर है भारत के भविष्य की जिसमे चारो ओर विकास ही होगा! ये तस्वीर है दो विकास पुरुष की अगर इस तरह के विकास पुरुष उ.प. में हो जाते तो आज उ.प. की ये तस्वीर नहीं होती

GJ said...

Hello Friend,

Your post has been back-linked in
http://hinduonline.blogspot.com/
- a blog for Daily Posts, News, Views Compilation by a Common Hindu - Hindu Online.

Please visit the blog Hindu Online for posts from a large number of bloogers, sites worth reading out of your precious time.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

नींद उड़ाने जैसी कोई बात नहीं है। हम जानते हैं कि जो भी सरकार बनेगी, वह जनता का कोई भला नहीं करेगी। वह अमीरों को और अमीर बनाएगी। गरीब और नि्म्न-मध्यवर्ग सब से अधिक संकट में आएगा। अनेक मध्यवर्गीय लोग निम्न मध्यवर्ग में धकेल दिए जाएंगे। ये सब के सब धन के चाटुकार हैं।
नींद तो इन की उड़ने वाली है तब जब कि इस नौटंकी को समझ चुकी जनता अपने विकल्प खुद खड़े करने लगेगी। यह काम देश में शुरू भी हो चुका है।

विकास सैनी said...

मीडिया बेवजह नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के बीच भ्रम फैलाने में लगा रहा। एनडीए के सभी दल एकजुट है, यह देखकर सेकुलरिस्‍टों के होश गायब है, इसलिए वे अफवाह फैलाने में जुटे हैं।

सुनील सुयाल said...

दोस्तों जनगणना शुरू हो चुकी है !भाषा वाले स्थान पर १ हिंदी २ प्रांतीय भाषा ३ संस्कृत लिखे बजाये इंग्लिश लिखने के !!और पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश के दीक्षांत समारोह मै गाउन और हेट उतारने जेसे मुद्दे का पुरज़ोर समर्थन करे !!!राष्ट्र हित सर्वोपरी

सुनील सुयाल said...

दोस्तों जनगणना शुरू हो चुकी है !भाषा वाले स्थान पर १ हिंदी २ प्रांतीय भाषा ३ संस्कृत लिखे बजाये इंग्लिश लिखने के !!और पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश के दीक्षांत समारोह मै गाउन और हेट उतारने जेसे मुद्दे का पुरज़ोर समर्थन करे !!!राष्ट्र हित सर्वोपरी