हितचिन्‍तक- लोकतंत्र एवं राष्‍ट्रवाद की रक्षा में। आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

Wednesday, 31 December, 2008

हितचिन्‍तक ब्‍लॉग आपको कैसा लगा?

हितचिन्‍तक ब्‍लॉग आपको कैसा लगा? हमें जरूर बताएं। इससे हमारा हौसला बढ़ेगा। आपके सुझाव और शिकायत के बूते ही हम इसे वैचारिक रूप से और प्रखर तथा युगानुकूल बना सकेंगे। हमारा प्रयास केवल समाज की विद्रूप स्थितियों का वर्णन करना ही नहीं है अपितु एक वैकल्पिक सोच विकसित कर समाज को रचनात्मक योगदान देना भी है।

19 comments:

विकास सैनी said...

हितचिन्तक ब्लॉग राष्ट्रवादी विचारधारा को आगे बढ़ाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं. आज जब राष्ट्रवादी विचारधारा पर चारों ओर से हमले हो रहे हैं, ऐसे में हितचिन्तक जैसे अनेक राष्ट्रवादी ब्लॉग की जरूरत हैं.

संजय बेंगाणी said...

राय? अजी लिखते रहीए. आज के लिए, भविष्य के लिए.

वेद रत्न शुक्ल said...

बहुत बढ़िया।

Anonymous said...

बकवास, भोंपू।

मिहिरभोज said...

कैसा लगता है माने ...यही लगता है ...हित...चिंतक..
राष्ट्र का,राष्ट्रवाद का ...हर भारत वासी का..वंदेमातरम्..लिखते रहें..अनवरत्

आशीष कुमार 'अंशु' said...

बस बढ़ते जाइए ... शुभकामना

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

खूब लिखें, अच्छा लिखें

Anonymous said...

Sandeep ji, aap ka blog badiya hai.
Is me aap ka jo prayaas hai aur jo hardwork hai, mai uski prashansa karta hu.

Maine aap ke site ke baare me Rajeev Srinivasan ke blog ke comment section se jaana.

Good luck.

Ek honest comment karna chahoonga, the content is all in Hindi and is se Non-Hindi ya basic Hindi wale logonko dikkat ho sakta hai, magar, Uttariya Bharat me, jahaa Hindi bolchal ka madhyam hai, jahaa angrezi ka pakad utna mazboot nahi hai, aapka blog kamaal kar dega.
Aapko Naye varsh ki shubhkaamnaye batata hu.
Jai Hind.

अनूप शुक्ल said...

लिखते रहें बढ़िया है!

Suresh Chandra Gupta said...

हितचिन्तक ब्लाग के सभी सदस्यों और मेहमानों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.

Anonymous said...

aapka udeshya kabil-e- tarif hai. apka prayas sarthak hai rakshtriyata ko jagrit karne ke disha me.baat seedhe or sapat shando me kahu to behtar hai.per apko nahi lagta ki apne jo manzil nirdharit ki hai osko pane ke lea sirf or sirf kisi ki aalochana hi kafi nahi hai.aap jaise sajag patrkar se apka desh,apki mitti "Hindustan" ye umeed nai karti.ek pathak ka yahi nazaria hai.mai amesha hitchintak ko padhti hu.agar apko meri baat se takleef hue ho to kripya mujhe maaf karenge.mera parichai hai ye hai ke mai apki hi tarah is desh ko rashtriyata he gangotri me aaplaavit hote dekhna chahti hu..

Anunita Anand

Anonymous said...

http://www.riazhaq.com/2009/01/grinding-poverty-in-resurgent-india.html

Tirthraj said...

Aap narmada bachao aandolan me Medha Patkar aur Arundhati roy ke saath the aur is ko aap gaurav ke pal mante hai.
Main ye jaan na chahunga ke aap is yojna ke bare main kya jaante hai aur aapne in striyo ka ssath kis aadhar pe diya?
Krupya in sawalo ka nider hoke javab dijiye ga.

Pratik Jawanpuria said...

maine poora blog nahi padha lekin jo kuch bhi padha kafi accha laga. aap isi prakar Rashtra ki seva karte rahen, yah meri hardik subhkaamnayen hain , Bharat Mata ki jay

रमण कौल said...

संजीव जी,
आप का ब्लॉग अच्छा लगा। एक तकनीकी दिक्कत आई, जिस के विषय में बताना चाहता हूँ। जब आप के चिट्ठे का कोई भी पृष्ठ लोड होता है तो कर्सर सीधा उछल कर नीचे चला जाता है जहाँ आप ने गूगल का टाइपराइटर लगा रखा है। पृष्ठ का ऊपरी भाग देखने के लिए उसे ऊपर सरकाना पड़ता है। कारण है उस टाइपराइटर में लगी स्क्रिप्ट जो कर्सर को अपने खाली बक्से में खींच लाती है। इस को ठीक करने के लिए या तो उस टाइपराइटर को हटाएँ, या उसे सब से ऊपर लगाएँ। टाइपराइटर का लिंक अपने टिप्पणी डिब्बे के पास दें तो काफी है।

kharee-kharee said...

बिल्‍कुल ठीक कहा। जो हिटलर की चाल चलेंगे, वे हिटलर की मौत मरेंगे।

रात का अंत said...

दोस्त इस पर आपने इतनी ज्यादा सामग्री डाली है कि एक सर्च इंजन की जरूरत महसूस हुई अगली बार आपके ब्लॉग पर शायद ये देखने को मिलेगा सामग्री भरपूर है
शुभकामनाएं।

Anonymous said...

Hindus-
Why are Hindu temples under Govt control while Churches and Mosques are not? Govt loots Hindu temple money and uses the funds to dole out Muslim Haj subsidies and build Christian churches. Protest this nonsense! Hindu temple money should be used for the welfare of less fortunate Hindus and for the promotion of Hindu culture, not for the promotion of Islam and Christianity!

BASAVARAJ KULALI said...

Dear sir,
I am abvp karyakarta from karnataka.
I want to translate your articles to kannada. Please give permission regarding this.
Thanking you.

E-mail: basavarajck@gmail.com
Mobile: 91 9980409004