हितचिन्‍तक- लोकतंत्र एवं राष्‍ट्रवाद की रक्षा में। आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

Tuesday, 22 July, 2008

कांग्रेस और सपा ने लोकतंत्र को शर्मसार किया

कहावत है पुरानी आदतें जल्दी नहीं जाती। भ्रष्टाचार कांग्रेस के चरित्र में है और भ्रष्टाचार सपा की पहचान बन चुकी है। दोनों दल अपनी ही जाल फंस में फंस गए। कांग्रेस और सपा ने सत्ता के लिए लोकतंत्र को कलंकित किया। भारतीय संसद को शर्मशार किया।

गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी के तीन लोकसभा सांसद सर्वश्री अशोक अरगल, फग्गन सिंह कुलस्त और महावीर भगोरा ने संसद में विश्वास-मत के दौरान एक-एक हजार रुपए के नोटों की गड्डियां उछालकर सनसनी फैला दी। भाजपा सांसदों ने कहा कि सपा नेता अमर सिंह और कांग्रेस नेता अहमद पटेल के इशारे पर सरकार के पक्ष में मतदान करने के लिए उन्हें 1-1 करोड़ टोकन के रूप में दिए गए और विश्वास मत के बाद 9-9 करोड़ रुपये देने की पेशकश की गई। तीनों सांसदों को जो रुपये की पेशकश की गई थी वह एक टीवी चैनल के कैमरे में कैद है।

थू-थू कांग्रेस-छि: छि: सपा

7 comments:

Sumit Kumar said...

कांग्रेस और सपा ने सचमुच देश को कलंकित किया हैं. अमर सिंह और अहमद पटेल ने लोकतंत्र को शर्मशार कर दिया हैं.

mahashakti said...

लोकतंत्र में ये कांग्रेसी पता नही क्‍या क्‍या गुल लिखयेगें, मनमोहन सिंह ने न सिर्फ आज सिर्फ नैतिकता खोई बरन वह जनता के मध्‍य विश्‍वास भी खोया है।

Anil Pusadkar said...

sansad to ab hammam ho gayi hai aur isme sabhi...........

विनय प्रजापति 'नज़र' said...

कौन क्या कर रहा है और क्यों? यह भला कौन कर सकता है? शायद कुछ बिन्दु जो इंगित किये गये अगर हटा दिये जायें तो मज़ा आ जाये किन्तु अमेरिका ऐसा करने वाला नहीं और हमें देखना है कितने परमाणु विद्युत उत्पादन केन्द्र कांग्रेस और खोलेगी और कितनी उत्पादन में वृद्धि होगी!

Udan Tashtari said...

बेहद निन्दनीय..अफसोसजनक.

sumansourabh said...

प्रतिक्रिया के लिए आप की अभिव्यक्ति का अभिवादन. इस संवेदनशील हस्ताक्षर को नमन. अब लाज भी लजा के चली गई है. सपा और कांग्रेस ने देश को नंगा कर दिया हैं.

Suitur said...

देश और लोकतंत्र के हित के लिये 'रिश्वत-प्रकरण' की सच्चाई देश के सामने आना आवश्यक है। आरोप सच है या झूठ, दोनों ही सूरतों मे इस मामले का खुलासा होना ही चाहिए, ताकि लोकतंत्र और संसद के प्रति जनता का विश्वास बना रहे।