हितचिन्‍तक- लोकतंत्र एवं राष्‍ट्रवाद की रक्षा में। आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

Thursday, 27 November, 2008

विडियो- ओ पालन हारे, निर्गुण और न्यारे



ओ पालन हारे, निर्गुण और न्यारे
तुम्‍हरे बिन हमरा कौनो नहीं....

हमरी उलझन सुलझाओ भगवन
तुम्‍हरे बिन हमरा कौनो नहीं....

तुम्ही हमका हो संभाले
तुम्ही हमरी रखवाले
तुम्‍हरे बिन हमरा कौनो नहीं...

चन्दा में तुम ही तो भरे हो चांदनी
सूरज में उजाला तुम ही से
यह गगन हैं मगन, तुम ही तो दिए इसे तारे
भगवन, यह जीवन तुम ही न सवारोगे
तो क्या कोई सवारे

ओ पालनहारे ......

जो सुनो तो कहे प्रभुजी हमरी है विनती
दुखी जन को धीरज दो
हारे नही वो कभी दुखसे
तुम निर्बल को रक्षा दो
रह पाए निर्बल सुख से
भक्ति दो शक्ति दो

जग के जो स्वामी हो, इतनी तो अरज सुनो
हैं पथ में अंधियारे
देदो वरदान में उजियारे

ओ पालन हरे ......

No comments: